Home Breaking News एसजीआरआर के 13 छात्र गिरफ्तार, रंगदारी और उपद्रव के मुकदमे के बाद...

एसजीआरआर के 13 छात्र गिरफ्तार, रंगदारी और उपद्रव के मुकदमे के बाद बड़ी कार्रवाई

19

कई दिनों से श्रीगुरुराम राय विश्वविद्यालय परिसर में किए जा रहे धरना प्रदर्शन को लेकर 13 छात्रों को पटेलनगर कोतवाली पुलिस ने मंगलवार को गिरफ्तार कर लिया। रंगदारी और उपद्रव के मुकदमे के बाद इसे बड़ी कार्रवाई माना जा रहा है। गिरफ्तार छात्रों में एसजीआरआर कालेज के छात्रसंघ अध्यक्ष व एबीवीपी नेता सहित अन्य पदाधिकारी व छात्र शामिल हैं। सभी को एसडीएम कोर्ट के समक्ष पेश किया गया, जहां से उन्हें निजी मुचलके पर रिहा कर दिया गया। वहीं, रंगदारी प्रकरण में छात्रों की ओर से वायरल की गई आई ऑडियो/वीडियो क्लिप को लेकर आरोप-प्रत्यारोप का दौर मंगलवार को भी जारी रहा।पटेलनगर कोतवाली के प्रभारी निरीक्षक कमल कुमार लुंठी ने बताया कि इन दिनों एसजीआरआर पीजी कालेज तथा एसजीआरआर विश्वविद्यालय के आइटीसी कैंपस में छात्रों की ओर से अपनी मांगो को लेकर धरना प्रदर्शन किया जा रहा है। इस दौरान कुछ छात्रों की ओर से कालेज प्रशासन के कर्मचारियों के साथ धक्का मुक्की कर उपद्रव करते हुए अराजकता फैलाने का प्रयास किया गया। परिसर के 100 मीटर के दायरे में कोर्ट ने धरना-प्रदर्शन को प्रतिबंधित किया है। इसके बाद भी छात्रों का प्रदर्शन शांत नहीं हो रहा। पुलिसकर्मियों की ओर से उन्हें समझाने का प्रयास किया गया, लेकिन वह नहीं माने और अन्य छात्रों को भी भड़काने का प्रयास करने लगे।

न्यायालय की ओर से भी धरना प्रदर्शन कर रहे छात्रों को कालेज परिसर को खाली करने के निर्देश दिए गए हैं और इसके बावजूद भी छात्रों की ओर से धरना प्रदर्शन जारी रखा गया। इस दौरान शांति व्यवस्था बनाने के लिए 13 छात्रों को गिरफ्तार किया गया। इनमें आइटीसी कैंपस से चंदन नेगी (छात्र संघ अध्यक्ष एसजीआरआर कालेज), नीरज रतूड़ी (महासचिव) और अंशुल बहुगुणा को गिरफ्तार किया गया। वहीं, एसजीआरआर पीजी कैंपस से नितिन, हितेंद्र ध्यानी, ऋषभ रावत, पार्थ जुयाल, राहुल जुयाल, प्रदीप असवाल, ऋतिक रावत, ललित पंवार और तन्मय सूद को गिरफ्तार किया गया है। इससे पहले पुलिस छात्रों पर रंगदारी मांगने, बलवा और उपद्रव का मुकदमा एसजीआरआर कालेज व विश्वविद्यालय प्रबंधन की शिकायत पर दर्ज कर चुकी है।
अब छात्रा टंकी पर चढ़ी, दिनभर चली टंकियों की निगरानी
पुलिस के पास सूचना थी कि आंदोलनरत छात्र व छात्राएं अपनी मांगे मनवाने के लिए पानी की टंकी में चढ़ सकते हैं, ऐसे में पटेलनगर के आसपास जितनी भी पानी की टंकियां हैं, उनके नीचे पुलिस फोर्स तैनात किया गया था। हालांकि, दोपहर को पथरीबाग स्थित पानी की टंकी पर एक छात्रा चढ़ गई, जिसे बड़ी मशक्कत के बाद नीचे उतारा गया।