Home दुनिया दुर्लभ ब्रह्मांडीय घटना

दुर्लभ ब्रह्मांडीय घटना

20

दुनिया ने आठ अप्रैल को पूर्ण सूर्य ग्रहण देखा. वहीं अब कोरोना बोरेलिस बाइनरी सिस्टम- जिसमें एक सफेद बौना तारा और एक विशालकाय लाल तारा शामिल है, एक शानदार नोवा विस्फोट की तैयारी कर रहे हैं.पृथ्वी से तीन हज़ार प्रकाश वर्ष दूर स्थित कोरोना बोरेलिस, टी कोरोना बोरेलिस या टी सीआरबी, नाम के एक सफेद बौने तारे का घर है. इसमें विस्फोट होने वाला है. अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा के मुताबिक इसमें दशकों में एक बार होने वाले नोवा विस्फोट का समय क़रीब आ चुका है.यह दुर्लभ ब्रह्मांडीय घटना अब से लेकर सितंबर 2024 के बीच हो सकती है. जब यह विस्फोट होगा, तब इस घटना को शायद इंसान अपनी आंखों से देख सकता है.

नासा का कहना है कि इस ब्रह्मांडीय घटना को देखने के लिए किसी महंगी दूरबीन की ज़रूरत नहीं होगी

नासा के मुताबिक, टी सीआरबी तारा प्रणाली की चमक के मामले में सामान्य दृश्यता परिमाण +10 है.लेकिन जब टी सीआरबी नोवा विस्फोट होता है, तो दृश्यता काफी बढ़ जाएगी. इसे परिमाण +2 के रूप में जाना जाता है.यह +10 से कहीं अधिक चमकीला है. +2 नॉर्थ स्टार और पोलारिस के समान का चमक स्तर है.जब तक ऐसा होगा, टी सीआरबी को नग्न आंखों से देखा जा सकता है.

नासा का कहना है कि जो लोग नोवा को होते हुए देखना चाहते हैं, उन्हें आकाश में तारामंडल कोरोना बोरेलिस या उत्तरी क्राउन- बूट्स और हरक्यूलिस के पास स्थित एक धुनषाकार आकृति को देखना चाहिए. नासा के मुताबिक, “यह वह जगह है, जहां विस्फोट एक ‘नए’ चमकीले तारे के रूप में नजर आएगा.” यह परमाणु प्रतिक्रियाओं की वजह से टी सीआरबी हमें आसानी से दिखाई दे रहा है.

यह गणितीय गणनाओं और मौजूद साक्ष्यों का मामला है.उदाहरण के लिए टी सीआरबी ने आखिरी बार नोवा का अनुभव 1946 में किया था, 78 साल पहले.कुक कहते हैं कि इस बात के एक और संकेत हैं कि टी सीआरबी भी विस्फोट के लिए तैयार हो रहा है.वो कहते हैं, “हम जानते हैं कि नोवा में जाने से पहले यह करीब एक साल तक मंद हो जाता है.  कोरोनाए बोरेलिस ने मार्च 2023 में मंद होना शुरू कर दिया था, इसलिए हमें लगता है कि यह आज से लेकर सितंबर के बीच नोवा में जाने वाला है.

टी सीआरबी में नोवा की पुनरावृत्ति की विश्वसनीय दर इसे सालों से पहचाने गए दूसरे नोवाओं से अलग करती है. यह इस तारे में होने वाले विस्फोट को खास बनाता है.

मेरेडिथ मैकग्रेगर जॉन्स हॉपकिन्स के विलियम एच मिलर 3 भौतिकी और खगोल विज्ञान विभाग में अस्सिटेंट प्रोफेसर हैं. वो तारों की गतिविधियों के विशेषज्ञ हैं.

कुक कहते हैं- ज्यादातर मामलों में नासा के विशेषज्ञों को यह पता नहीं होता है कि नोवा विस्फोट कब होने वाले हैं, लेकिन करीब 10 नोवा ऐसे हैं जिन्हें ‘आवर्ती (बार-बार होने वाली घटना) नोवा’ के रूप में जाना जाता है.कुक कहते हैं, “आवर्तक नोवा एक ऐसा नोवा है जो समय-समय पर अपना ऊपरी हिस्सा उड़ाता रहता है.” वो कहते हैं कि टी कोरोनाए बोरेलिस इसका प्रमुख उदाहरण है.लेकिन नासा को इतनी सटीकता के साथ कैसे पता है कि टी सीआरबी अगले कुछ महीनों में खासतौर पर विस्फोट करने वाला है?

यह गणितीय गणनाओं और मौजूद साक्ष्यों का मामला है.उदाहरण के लिए टी सीआरबी ने आखिरी बार नोवा का अनुभव 1946 में किया था, 78 साल पहले.कुक कहते हैं कि इस बात के एक और संकेत हैं कि टी सीआरबी भी विस्फोट के लिए तैयार हो रहा है.