Home उत्तराखंड धूप खिली होने के कारण तापमान वृद्धि हो सकती है,परेशान करेगी चिलचिलाती...

धूप खिली होने के कारण तापमान वृद्धि हो सकती है,परेशान करेगी चिलचिलाती गर्मी,

47

मौसम विभाग के अनुसार आज मौसम साफ । धूप खिली होने के कारण तापमान वृद्धि हो सकती है। हालांकि अगले दो दिन प्रदेश कुछ हिस्सों में बारिश होने के आसार हैं।
देहरादून: उत्तराखंड में आज यानी गुरुवार को मौसम साफ रहने की संभावना है। रक्षाबंधन के दिन लोगों को बारिश से नहीं बल्कि चटक धूप निकलने के कारण होने वाली गर्मी से जूझना पड़ सकता है। हालांकि एक सितंबर को चमोली, रुद्रप्रयाग, पिथौरागढ़, बागेश्वर, अल्मोड़ा, चंपावत और नैनीताल में बारिश की संभावना है। इन जिलों में कहीं कहीं गर्जन के साथ आकाशीय बिजली चमकने और बारिश होने के आसार है।
बारिश कम होने के बाद चारधाम आने वाले यात्रियों की संख्या में भी इजाफा होने लगा है। 30 अगस्त को बद्रीनाथ धाम में 1944, हेमकुंड साहिब में 218, केदारनाथ धाम में 2409, गंगोत्री धाम में 830 और यमुनोत्री धाम में 912 तीर्थयात्रियों ने दर्शन किए। वही पर्वतीय क्षेत्रों में भी बारिश रुकने से नदियों का जलस्तर भी खतरे के निशान से नीचे आ गया है। उत्तराखंड में फिलहाल भारी वर्षा का क्रम थमा हुआ है जिससे प्रदेशवासी राहत महसूस कर रहे हैं। मानसून के अचानक कमजोर पड़ने से मौसम विज्ञानी चिंता में है। जिसकी वजह यह मानी जा रही है कि अगस्त के अंतिम सप्ताह में नहीं के बराबर बारिश हुई है।
मौसम विभाग के अनुसार सितंबर में भी मानसून का यही रूप रह सकता है। ऐसे में मानसून के समय से पहले विदा होने की बात से इनकार नहीं किया जा सकता। वहीं बारिश के दौरान गंगोत्री राष्ट्रीय राजमार्ग पर सक्रिय हुए भूस्खलन क्षेत्र के दर रखने का सिलसिला अभी थमा नहीं है। किडनी वाली सुर से लेकर गंगोत्री तक 140 किलोमीटर हिस्से में सड़क जर्जर हो चुकी है। राजमार्ग पर आधा दर्जन से अधिक क्षेत्र ऐसे हैं जहां भूधसंव की समस्या बनी हुई है।
मानसून सीजन में इस बार उत्तराखंड में जनहानि के साथ ही सड़कों, खेती, सार्वजनिक संपत्ति को काफी क्षति पहुंची है। सरकार की ओर से विभागवार कराए जा रहे क्षति के आकलन में यह आंकड़ा 1300 करोड़ के पास पहुंच चुका है।