Home Breaking News पूनम पांडे की मौत की पुष्टि करने श्मशान घाट मीडिया टीम, सच...

पूनम पांडे की मौत की पुष्टि करने श्मशान घाट मीडिया टीम, सच क्या है जानने में लगी?

47

चर्चित मॉडल और अभिनेत्री पूनम पांडे शुक्रवार को दिनभर शहर में सनसनी बनी रही। सुबह उनके इंस्टाग्राम पोस्ट का स्क्रीन शॉट वायरल होने लगा, जिसमें सर्वाइकल कैंसर से पूनम की मौत की सूचना थी। यह अफवाह भी फैली कि पूनम कानपुर की मूल निवासी हैं और उनकी मौत यहीं हुई। इसके बाद तस्दीक करने की कोशिशें शुरू हुईं। मीडिया ने शहर के तीनों कैंसर अस्पताल, श्मशान घाट छान मारे। पुलिस और खुफिया एजेंसियों तक से बात की लेकिन रात तक तस्दीक नहीं हुई है। 2011 में क्रिकेट वर्ल्ड कप जीतने पर न्यूड होने का ऐलान कर सुर्खियों में आने वाली मॉडल पूनम पांडे का इससे पहले कानपुर से कोई रिश्ता कभी प्रकाश में नहीं आया। शुक्रवार को कानपुर में उनकी मौत की सूचना वायरल होने के बाद कानपुर अचानक चर्चा में आ गया। मुंबई, दिल्ली और पुणे से कानपुर कॉल कर लोग इस बाबत पूछने लगे। स्थानीय मीडिया ने रीजेंसी, जेके और रतन कैंसर अस्पतालों से पूछा। भैरवघाट, सिद्धनाथ घाट और भगवतदास श्मशान घाट छान मारे। कभी दक्षिण में उनका घर होने की सूचना फैली तो कभी कल्याणपुर में। इन इलाकों में खोजबीन हुई। पांडे सरनेम वालों तक से लोगों ने पूछा। कहीं तस्दीक नहीं हुई। इस बीच पूनम की मैनेजर बताई जा रही पारुल नाम की महिला ने फोन पर कानपुर में पूनम की मौत की पुष्टि कर दी। उसके बाद तो मीडिया ज्वाइंट पुलिस कमिश्नर तक पहुंच गया। कोई जानकारी न मिलने पर एलआईयू को कुरेदा गया। एलआईयू के एक अधिकारी ने मुंबई पुलिस से बात की तो पता चला कि पूनम की मौत दिल्ली में होने की सूचना है। इसी बीच पुणे में शूटिंग के दौरान पूनम की मौत और शव कानपुर लाए जाने की अफवाह फैली। देर रात तक इसकी भी तस्दीक नहीं हुई न उनका पैतृक घर कानपुर में होने की पुष्टि हुई।

इस सबके बीच सोशल मीडिया से आपसी बातचीत तक इसे प्रमोशनल पैंतरेबाजी भी बताया गया। कई लोगों ने कहा कि फिल्मी दुनिया में ऐसे तरीके इस्तेमाल होते हैं। या तो यह दो दिन बाद कैंसर जागरूकता दिवस से संबंधित पैंतरा है या फिर कैंसर पर किसी फिल्म या वेब सीरीज का प्रमोशनल स्टंट है। दूसरी ओर फिल्मों से जुड़े तमाम लोग सोशल मीडिया पर पूनम को श्रद्धांजलि भी देते रहे।