Home उत्तराखंड बीना स्मृति सम्मान चमोली (सिंलगी ) 12 मई को वीना बिष्ट के...

बीना स्मृति सम्मान चमोली (सिंलगी ) 12 मई को वीना बिष्ट के बलिदान दिवस पर

8

10 लोगों को दिया गया बीना स्मृति सम्मान चमोली (सिंलगी ) 12 मई को वीना बिष्ट के बलिदान दिवस की अवसर पर बीना स्मृति फाउंडेशन के द्वारा सिलगी में वन अग्नि सुरक्षा व जलवायु परिवर्तन आधारित एक विचार गोष्ठी का आयोजन किया गया । इस गोष्ठी में लोग जागृति विकास संस्था के सचिव जितेन्द्र कुमार ने सभी प्रतिभागियों को स्वागत एवं अभिनंदन किया । उन्होंने ने कहां भी बीना का जन्म वरतोली गांव में हुआ था वह कक्षा 7 की विद्यार्थी थी और 14 साल की उम्र में अपने गांव में आग बुझाते बुझाते वीरगति को प्राप्त हो गई थी 12 मई 1999 को बीना की मृत्यु हुई थीबीना के बलिदान को अमर रखने के लिए यह प्रयास किया जा रहा है की हर वर्ष बीना के बलिदान दिवस के दिन समाज में वन अग्नि सुरक्षा और पर्यावरण के क्षेत्र में काम करने वाले लोगों को बीना स्मृति सम्मान दिया जाता है इस वर्ष दूर दराज क्षेत्रों में काम करने वाले ऐसी 10 व्यक्तियों को यह सम्मान के लिए चुना गया और यह सम्मान राजकीय इंटर कॉलेज सिलगी में आयोजित किया गया कार्यक्रम में बच्चों ने सरस्वती वंदना के साथ पर्यावरण संरक्षण के बारे में नारे व गीत का आयोजन किया गया। इस अवसर पर मानव अधिकार कार्यकर्ता एवं जनदेश के सचिव लक्ष्मण सिंह नेगी ने वनों की आग को कैसे बचाया जा सकता और काम किया जा सकता है इसके बारे में विस्तार से बात रखी और उन्होंने कहा कि जलवायु परिवर्तन के कारण मानव जीव एवं वन्य जीव जंतु संकट में है यदि हम समय रहते हुए वातावरण में जो बदलाव हो रहा है उसके बारे में सही ढंग से हमने योजना तैयार नहीं की तो हम सब लोगों का भविष्य संकट में चल जाएगा जलवायु परिवर्तन के कारकों को समझना होगा आज वन जीव संघर्ष बढ़ गया है जिसका कारण है कि जंगलों में वन्य जीव को प्राप्त भोजन उपलब्ध नहीं हो पा रहा है और वह घरों की ओर आ रहे हैं जिससे मानव को खतरा पैदा हो गया है वनों में आग अधिकांश शरारती तत्वों के द्वारा ही लगाई जाती है।सरकार को चाहिए कि ठोस नीति बनाये जिससे जलवायु परिवर्तन के संकट से बचा जा सके चौड़ी पत्ती एवं फलदार पौधों का रोपण जंगलों में किया जाना चाहिए जहां वृक्षारोपण किया जा रहा है वहां पर सुरक्षा के इंतजाम अच्छे ढंग से किए जाने की आवश्यकता है जिससे वनीकरणों में चौड़ी पत्ती के पौधों का रोपण किया जाना चाहिए व पौधे सुरक्षित रखा जा सके। बीना के बलिदान पर आधारित एक रचना की प्रस्तुति जितेंद्र कुमार के द्वारा तेरी ऋतु बसंत फिर वौडी की आएगी मनखी वौडी नि आनंदा। 2005 से हर वर्ष बीना स्मृति सम्मान दिया जाता है इस वर्ष का सम्मान सुधीर रावत चहिर माला, सुरेंद्र सिंह रावत निदेशक सिक्स पर्यावरण संरक्षण और आजीविका के क्षेत्र में लक्ष्मी रावत वन अग्नि सुरक्षा एवं पर्यावरण संरक्षण के क्षेत्र में राकेश मैठानी वन पंचायत सरपंच वन अग्नि सुरक्षा के कार्यों के नरेंद्र तोपाल समाज सेवा एवं संस्कृति संरक्षण पर्यावरण संरक्षण के लिए शिक्षा के क्षेत्र में मंजू गौर रस की प्राथमिक विद्यालय मैखुरा सुरेंद्र सिंह कंडवाल प्रधानाध्यापक जूनियर हाई स्कूल ग्वाड कपरी लोक साहित्य संरक्षण के क्षेत्र में प्रवक्ता वैणी अथवाल राजकीय महाविद्यालय कर्ण प्रयाग पत्रकारिता के क्षेत्र में क्रांति प्रसाद भट्ट गोपेश्वर को दिया जाना है लक्ष्मण सिंह बिष्ट जिला पंचायत सदस्य कई नागरिक अभिनंदन किया गया उनके द्वारा समाज में उत्कृष्ट कार्य किया जा रहे हैं कुमारी प्रियंका उप प्रभागीय वनि अधिकारी बद्रीनाथ प्रभाग ने कहां की सभी लोगों का दायित्व है कि जंगलों की संरक्षण के लिए आगे आए सी पी भट्ट फाउंडेशन के अध्यक्ष मंगला कोठियाल ने कहा कि प्रकृति को बचाने के लिए हम सब लोगों को मिलकर काम करने की आवश्यकता है। कार्यक्रम की मुख्य अतिथि जिला पंचायत समिति लक्ष्मण बिष्ट एवं कार्यक्रम की अध्यक्षता बृजेश मोहन ने किया। इस कार्यक्रम में क्षेत्र की महिला मंगल दल शिवरीनारायण किमोठी शेप संस्था,हिमाद समिति के प्रतिनिधि एवं कई जनप्रतिनिधियों ने प्रतिभाग किया। वन विभाग के अधिकारियों एवं कर्मचारियों ने भी कार्यक्रम में शिरकत की।