Home उत्तर प्रदेश यूपी की इस सीट पर मायावती की नजर

यूपी की इस सीट पर मायावती की नजर

8

2019 के चुनाव में सपा-बसपा का गठबंधन था। यह सीट बसपा के खाते में गई थी। उसने पूर्व विधायक चंद्रभद्र सिंह सोनू को चुनाव मैदान में उतारा था। भाजपा प्रत्याशी पूर्व मंत्री मेनका गांधी से हुए कड़े मुकाबले में सोनू को शिकस्त का सामना करना पड़ा। अब इस बार न तो सोनू बसपा में हैं और न ही सपा से गठबंधन ही हो सका। बसपा अकेले चुनाव लड़ने की तैयारी में है। सुल्तानपुर लोकसभा सीट 2019 के चुनाव में सपा-बसपा का गठबंधन था। यह सीट बसपा के खाते में गई थी। उसने पूर्व विधायक चंद्रभद्र सिंह सोनू को चुनाव मैदान में उतारा था। भाजपा प्रत्याशी पूर्व मंत्री मेनका गांधी से हुए कड़े मुकाबले में सोनू को शिकस्त का सामना करना पड़ा। अब इस बार न तो सोनू बसपा में हैं और न ही सपा से गठबंधन ही हो सका।
यूपी की इस सीट पर मायावती की नजर, छह लोगों ने कर रखी दावेदारी; पर अभी तक कोई फाइनल नहीं हुआ सुलतानपुर लोकसभा सीट से दाेबार विजेता और पिछली बार रनर रहने वाली बसपा ने अब तक अपने पत्ते नहीं खोले। वह इस बार नए और मजबूत प्रत्याशी की तलाश कर रही है, जो अब तक पूरी न हो सकी। इस बीच खबर है कि टिकट के दावेदारों से पार्टी मुखिया मायावती की दो चक्रों में मुलाकात भी हो चुकी है। उनकी इस सीट पर पैनी नजर है। जल्द ही नाम की घोषणा हाेने की उम्मीद है।इसके लिए किसी नए और मजबूत चेहरे की तलाश चल रही है। पार्टी सूत्रों का कहना है कि टिकट के लिए करीब छह लोगों ने दावेदारी  है। इनमें प्रमुख रूप से एक मुस्लिम और पिछड़ी जाति के दावेदार को टिकट की बताया जा रहा है। वहीं, कुछ लोग सामान्य जाति के प्रत्याशी के नाम पर  मंथन होने की बात कह रहे हैं। बसपा इस सीट पर दो बार जीत दर्ज कर चुकी है।उसने भीम निषाद को प्रत्याशी घोषित किया है। भाजपा ने एक बार फिर वर्तमान सांसद मेनका गांधी पर भरोसा जताया है।  पार्टी जिलाध्यक्ष सुरेश कुमार गौतम का कहना है कि जल्द ही तस्वीर स्पष्ट हो जाएगी। हम लोग पार्टी नेतृत्व के आदेश की प्रतीक्षा कर रहे हैं।