Home राज्य रसोइयों ने अपनी मांगों को लेकर किया प्रदर्शन, 30 नवंबर से रसोइयों...

रसोइयों ने अपनी मांगों को लेकर किया प्रदर्शन, 30 नवंबर से रसोइयों के हड़ताल का हुआ ऐलान

42

बुधवार को मिड डे मील वर्कर्स यूनियन- रसोइया संघ, अररिया ने अपनी मांगों को लेकर आज सुभाष स्टेडियम में एक बड़ा जुटान किया। संघ ने ऐलान किया कि अररिया जिला की रसोइया 30 नवंबर से अनिश्चितकालीन हड़ताल करने जा रहीं है। उनकी प्रमुख मांग है कि मानदेय को 1650 से बढ़ा कर 10,000 रु किया जाए एवं उन्हें साल के 12 महीने का पेमेंट किया जाय। ज्ञात हो कि बिहार के स्कूलों में मध्यान भोजन बना रही रसोइया को मात्र 1650 रु प्रतिमाह का मानदेय दिया जाता है और वह भी साल में 10 महीने। सुभाष स्टेडियम में सभा करने के बाद रसोइयों ने शहर में दमदार रैली निकाली और अपनी मांग समेत हड़ताल का पत्र मध्यान भोजन कार्यालय पर जाकर सुपुर्द किया।
संघ की जिला अध्यक्ष कामायनी स्वामी ने कहा कि केंद्र सरकार को शर्म आनी चाहिए कि महिलाओं से दिनभर काम करा कर सरकार उन्हे सिर्फ 55 रु प्रतिदिन भुगतान करती है। यह न्यूनतम मजदूरी से माफी काम है और किसी भी तरह से जायज नहीं । मोदी सरकार को आड़े हाथों लेते हुए उन्हों कहा कि पिछली 9 सालों में केंद्र ने एक रू का मानदेय में इजाफा नहीं किया पर चावल का रेट दुगुना जरूर हो गया। एटक के राष्ट्रीय नेता नेता गजनफर नवाब ने कहा कि अगर सरकारें मानदेय नहीं बढ़ाती है तो उसे बदल देना ही ठीक है । 1650 रु का मानदेय इंसानियत के खिलाफ है। सभा को सीपीआई के जिला सचिव डा एस आर झा ने भी संबोधित किया और पार्टी की तरफ से पूरा सहयोग देने का वादा किया। जन जागरण शक्ति संगठन के आशीष रंजन, रंजीत पासवान सहित कई गणमान्य व्यक्तियों ने रसोइया की मांगों का समर्थन किया। शिवनारायण और डोली ने अपने गीतों के माध्यम से लोगों के संघर्ष की बात कही। सभा को सफल बनाने में नारद पासवान, चंद्रिका सिंह चौहान , बेचन , सहित रसोइया संघ के तमाम पदाधिकारियों ने जी तोड मेहनत की।