Home उत्तर प्रदेश ड्रग्स, एब्यूज, सेक्शुअल वॉयलेंस व अपराध रोकथाम के लिए युवाओं में जागरूकता...

ड्रग्स, एब्यूज, सेक्शुअल वॉयलेंस व अपराध रोकथाम के लिए युवाओं में जागरूकता जरूरी : डीएम

47

जिलाधिकारी अंकित कुमार अग्रवाल नेे बताया कि सरकार का प्रयास है कि ड्रग्स, एब्यूज, सेक्शुअल वॉयलेंस तथा अन्य गंभीर अपराध एवं बुराइयों के बारे में युवाओं में जागरूकता लाई जा सके तथा साथ ही इनके माध्यम से आने वाली पीढ़ी एक सशक्त समाज का निर्माण कर सके। उत्तर प्रदेश सरकार छात्र छात्राओं को सामाजिक सरोकारों से जोड़ने तथा सामाजिक पहलुओं और कुरीतियों को समझाने के लिए पाठ्क्रम तैयार किया गया है, जिसके सापेक्ष स्कूलों, कॉलेजों एवं अन्य उच्च शिक्षण संस्थाओं में पुलिस अधिकारियों द्वारा छात्र एवं छात्राओ जानकारी उपलब्ध कराई जाती है तथा उन्हें पुलिस थानों एवं अन्य शासकीय कार्यालयों की कार्य प्रणाली से परिचित कराने के लिए स्थलीय भ्रमण भी कराया जाता है।
उन्होंने बेसिक एवं माध्यमिक शिक्षा विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिए कि प्रतिमाह 10-10 कार्यक्रमों को संचालित कराने के लिए रोस्टर बनाएं, जिसमें 4-4 कार्यक्रम बेसिक एवं माध्यमिक स्कूलों तथा 2 कार्यक्रम उच्च शिक्षण संस्थानों में आयोजित कराना सुनिश्चित कराएं। उन्होंने यह भी निर्देश दिए कि आगामी बैठक में ऐजेण्डे के साथ उपस्थित हों ताकि निर्धारित बिंदुओं पर विचार किया जाए और निर्गत निर्देशों का अनुपालन भी सुनिश्चित किया जाए। उन्होंने एसपीसी की नोडल अधिकारी को यह भी निर्देश दिए कि शिक्षण संस्थानों में आयोजित कार्यक्रमों को पूरी तरह उपयोगी और लाभदायी बनाने के लिए थानेवार थानाध्यक्षों की ड्यूटी लगाए और उनका प्रतिभाग कराना सुनिश्चित करें।
एसपीसी की नोडल अधिकारी/सीओ महिला सुरक्षा अर्चना सिंह ने बताया कि किशोरावस्था में छात्र-छात्राओं को सुरक्षा और शांति के प्रति जागरूक कर उनमे आत्म बल पैदा करने के उद्देश्य से यह प्रोग्राम चलाया जा रहा है। जिलाधिकारी की अध्यक्षता में गठित 4 सदस्य समिति के द्वारा प्रत्येक माह इसकी समीक्षा की जाती है ताकि कार्य की प्रगति बनी रहे। उन्होंने यह भी बताया कि स्टूडेंट पुलिस कैडेट इसको लेकर बच्चों को थानों समेत सभी सरकारी कार्यालयों में ले जाकर वहां की कार्यप्रणाली से परिचित कराने का कार्य नियमित रूप से कराया जा रहा है। इस प्रोग्राम में विद्यार्थियों को इंटरनल और एक्सटर्नल दोनों प्रकार की ट्रेनिंग दी जाती है थानो सहित लगभग सभी सरकारी कार्यालय में ले जाकर वहां की कार्यप्रणाली से बच्चों को रूबरू कराया जा रहा है साथ ही उन्हें आत्म सुरक्षा के गुण भी सिखाए जा रहे हैं।
इस अवसर पर जिला विद्यालय निरीक्षक रामाज्ञा कुमार, बेसिक शिक्षा अधिकारी जयकरण यादव सहित अन्य संबंधित अधिकारी मौजूद थे।