Home Breaking News Big breaking :-2022 की मर्सिडीज 2023 का मॉडल बताकर बेची, फिर गुस्साए...

Big breaking :-2022 की मर्सिडीज 2023 का मॉडल बताकर बेची, फिर गुस्साए फिल्म प्रोड्यूसर ने लगा दी सबकी क्लास, अब हुआ इनपर मुकदमा

42

2022 की मर्सिडीज 2023 का मॉडल बताकर बेची, फिर गुस्साए फिल्म प्रोड्यूसर ने लगा दी सबकी क्लास
फिल्म प्रोड्यूसर जयप्रकाश तिवारी का आरोप है कि मोहब्बेवाला स्थित मर्सिडीज बेंज के शोरूम बारक्ले मोटर्स लिमिटेड ने उन्हें वर्ष 2022 माडल की कार वर्ष 2023 की बताकर बेच दी। तब उन्होंने अपनी स्कोडा रैपिड कार एक्सचेंज में दी और 48 लाख रुपये कीमत की मर्सिडीज ए-क्लास लिमोजिन कार खरीद ली। मर्सिडीज के चेयरमैन और डायरेक्टर पर दून में धोखाधड़ी का मुकदमा दर्ज हुआ है।फिल्म प्रोड्यूसर को पुरानी माडल की कार नया माडल बताकर बेचने के मामले में प्रतिष्ठित वाहन निर्माता कंपनी मर्सिडीज बेंज के चेयरमैन, निदेशक, प्रबंध निदेशक और देहरादून स्थित शोरूम संचालक के विरुद्ध मुकदमा दर्ज कराया गया है।

शिकायतकर्ता दून निवासी फिल्म प्रोड्यूसर एवं बिल्डर जयप्रकाश तिवारी का आरोप है कि मोहब्बेवाला स्थित मर्सिडीज बेंज के शोरूम बारक्ले मोटर्स लिमिटेड ने उन्हें वर्ष 2022 माडल की कार वर्ष 2023 की बताकर बेच दी। जबकि, कंपनी की ओर से दी गई इनवाइस और बीमा के दस्तावेज पर वर्ष 2023 ही अंकित है।बंसल होम, दून एन्क्लेव निवासी जयप्रकाश तिवारी ने पटेलनगर कोतवाली पुलिस को बताया कि वह मुंबई में रहते हैं और फिल्म प्रोड्यूसर हैं। देहरादून में उनका बिल्डिंग निर्माण का भी काम है। वर्ष 2022 में उन्होंने मर्सिडीज बेंज कंपनी के मोहब्बेवाला स्थित बारक्ले शोरूम में नई कार खरीदने के लिए संपर्क किया। तब उन्होंने अपनी स्कोडा रैपिड कार एक्सचेंज में दी और 48 लाख रुपये कीमत की मर्सिडीज ए-क्लास लिमोजिन कार खरीद ली।इसके बाद नौ फरवरी-2022 को उन्होंने ए-क्लास लिमोजिन कार को एक्सचेंज में देकर 70 लाख रुपये कीमत की मर्सिडीज बेंज सी-क्लास बुक करा दी। शोरूम संचालक ने 24 फरवरी को उन्हें कार उपलब्ध कराई, जिसकी इनवाइस और बीमा दस्तावेज पर माडल वर्ष 2023 अंकित था।
देहरादून संभागीय परिवहन कार्यालय में (यूके07-एफके1199) नंबर पर कार का पंजीकरण हुआ।शिकायतकर्ता का कहना है कि जून-2023 में वह बदरीनाथ धाम से लौट रहे थे, तभी उनकी कार नीचे से रगड़ खा गई। इसी दौरान उन्हें पता चला कि मर्सिडीज बेंज का नया माडल जीएलसी आ गया है। इस पर वह 30 जून-2023 को दोबारा बारक्ले शोरूम पहुंचे और अपनी मर्सिडीज बेंज सी-क्लास को एक्सचेंज में देकर जीएलसी माडल बुक कराने की इच्छा जताई। इस पर शो रूम संचालक ने एक्सचेंज में ली जा रही उनकी मर्सिडीज बेंज सी-क्लास की कीमत में 30 प्रतिशत कटौती की बात कही।जब उन्होंने बताया कि इस कार को खरीदे हुए अभी चार माह ही हुए हैं तो शोरूम के अधिकारियों ने बताया कि उनकी कार 2023 नहीं, बल्कि 2022 माडल की है। इस पर जयप्रकाश तिवारी ने कार खरीदने के दौरान मिली इनवाइस व बीमा के कागज दिखाए, जिस पर कार का माडल 2023 अंकित था।

शोरूम के अधिकारियों ने उसे तकनीकी त्रुटि बताकर पल्ला झाड़ लिया।आरोप है कि शोरूम संचालक ने तत्काल नई इनवाइस बना दी, जिस पर कार का माडल 2022 दर्ज था। उन्होंने इस पर हस्ताक्षर करने से मना कर दिया तो उन्हें धमकी भी दी गई। शिकायतकर्ता ने बताया कि इसके बाद उन्होंने मर्सिडीज बेंज कंपनी के पुणे (महाराष्ट्र) स्थित कार्यालय में संपर्क किया और वहां चेयरमैन, प्रबंध निदेशक व निदेशक को ई-मेल भी की।आरोप है कि सभी ने इसे तकनीकी खामी बताते हुए मामला रफा-दफा करने को कहा। सुनवाई न होने पर उन्होंने पुलिस से शिकायत की, जिसकी प्रारंभिक जांच के बाद अब मर्सिडीज बेंज पुणे के प्रबंध निदेशक संतोष अय्यर, चेयरमैन, निदेशक, सीईओ समेत बारक्ले शोरूम दून के संचालक पर मुकदमा दर्ज किया गया है।जयप्रकाश तिवारी ने बताया कि उन्होंने 18 अगस्त 2023 को एसएसपी देहरादून के कार्यालय में लिखित शिकायत दी थी। वहां से मामला जांच के लिए आइएसबीटी चौकी पुलिस के पास भेज दिया गया। वह लगातार चौकी जाते रहे, लेकिन पुलिस ने जांच आगे नहीं बढ़ाई और उन्हें टहलाती रही।

पिछले दिनों जांच अधिकारी चौकी प्रभारी का तबादला हो गया, जिसके बाद शिकायतकर्ता दोबारा एसएसपी अजय सिंह से मिले। एसएसपी ने एसपी क्राइम को मामले की जांच सौंपी। 20 दिन बाद एसपी क्राइम ने एसएसपी को रिपोर्ट सौंपी, जिसके बाद अब जाकर एसएसपी के आदेश पर मुकदमा दर्ज हो पाया है।