Home Breaking News Business : सोलर कंपनी का आईपीओ आपको बना देगा मालामाल, ग्रे मार्केट...

Business : सोलर कंपनी का आईपीओ आपको बना देगा मालामाल, ग्रे मार्केट में तेजी, ₹115 प्राइस बैंड, अवसर कल से शुरू

25

अगर आप किसी सोलर कंपनी के आईपीओ में निवेश करने की सोच रहे हैं तो आपके लिए कल यानी गुरुवार 8 फरवरी से एक खास मौका आ रहा है। दरअसल, कल से सोलर सिस्टम मैन्युफैक्चरर अल्पेक्स सोलर का आईपीओ निवेश के लिए ओपन होगा। निवेश इस इश्यू में सोमवार 12 फरवरी तक दांव लगा सकेंगे। सोलर सिस्टम आईपीओ का प्राइस बैंड ₹109 – ₹115 प्रति शेयर तय किया है। बता दें कि एल्पेक्स सोलर आईपीओ एक एसएमई आईपीओ है। एंकर निवेशकों के लिए यह इश्यू आज बुधवार, 07 फरवरी को खुल रहा है।

क्या है डिटेल
कंपनी का इरादा पेशकश से ₹74.52 करोड़ जुटाने का है, जिसमें बुक-बिल्डिंग रूट के जरिए ₹10 फेस वैल्यू के 64.80 लाख इक्विटी शेयरों का फ्रेश इश्यू शामिल है। एल्पेक्स सोलर आईपीओ का लॉट साइज 1,200 इक्विटी शेयर है और खुदरा निवेशकों के लिए आवश्यक न्यूनतम निवेश राशि ₹138,000 है। एल्पेक्स सोलर आईपीओ में एंकर हिस्से के लिए 18.45 लाख इक्विटी शेयर आरक्षित किए गए हैं। लगभग 3.24 लाख इक्विटी शेयर मार्केट मेकर के लिए हैं, 9.24 लाख इक्विटी शेयर गैर-संस्थागत निवेशकों (एनआईआई) के लिए आवंटित किए गए हैं, 12.31 लाख शेयर योग्य संस्थागत खरीदारों (क्यूआईबी) के लिए और खुदरा (आरआईआई) हिस्से में 21.55 लाख इक्विटी शेयर हैं। एल्पेक्स सोलर आईपीओ आवंटन 13 फरवरी को तय होने की संभावना है और शेयर 15 फरवरी को एनएसई इमर्ज पर लिस्ट होंगे। कॉरपोरेट कैपिटल वेंचर्स एल्पेक्स सोलर आईपीओ का बुक रनिंग लीड मैनेजर है और स्काईलाइन फाइनेंशियल सर्विसेज प्राइवेट लिमिटेड आईपीओ रजिस्ट्रार है।

क्या है जीएमपी?
मार्केट जानकारों के मुताबिक, अल्पेक्स सोलर आईपीओ ग्रे मार्केट में 195 रुपये प्रीमियम पर उपलब्ध है। इसका मतलब है कि कंपनी के शेयरों की 310 रुपये पर लिस्टिंग हो सकती है। यानी पहले ही दिन निवेशकों को करीबन 170 पर्सेंट का मुनाफा हो सकता है।

क्या है कंपनी की योजना?
अल्पेक्स ने आईपीओ से प्राप्त राशि में से अपनी सोलर मॉड्यूल मैन्युफेक्चरिंग फैसिलिटीज को और बेहतर तथा उसका विस्तार करने और अपनी क्षमता को 450 मेगावाट से 1.2 गीगावॉट तक बढ़ाने के लिए 19.55 करोड़ रुपये का इस्तेमाल करने की योजना बनाई है। इसके अलावा, 12.94 करोड़ रुपये का इस्तेमाल उसके सौर मॉड्यूल के एल्यूमीनियम फ्रेम के लिए एक नई मैन्युफेक्चरिंग यूनिट स्थापित करने के लिए किया जाएगा। बाकी 20.49 करोड़ रुपये का इस्तेमाल कार्यशील पूंजी आवश्यकताओं को पूरा करने और शेष कॉर्पोरेट खर्चों के लिए किया जाएगा।