Home उत्तराखंड धामी सरकार लगातार कर रही है विपक्षी दल के चुने हुए जनप्रतिनिधियों...

धामी सरकार लगातार कर रही है विपक्षी दल के चुने हुए जनप्रतिनिधियों के साथ सौतेला व्यवहार : करन माहरा

20

उत्तराखण्ड प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष करन माहरा ने भारतीय जनता पार्टी की राज्य सरकार पर विपक्षी दल के चुने हुए जनप्रतिनिधियों के साथ लगातार सौतेला व्यवहार करने का आरोप लगाया है। करन माहरा ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी की प्रदेश सरकार निम्न स्तर की राजनीति पर उतर आई है, इसीलिए कभी विपक्षी दल के चुने हुए जनप्रतिनिधियों को साम-दाम-दंड-भेद की नीति से पदच्युत कर रही है तो कभी उनके निर्वाचित क्षेत्रों में विकास की योजनाओं पर रोक लगा कर सौतेला व्यवहार कर रही है। करन माहरा का कहना है कि किसी भी प्रदेश की चुनी हुई सरकार और उसके मुखिया के लिए सभी क्षेत्र एक समान होने चाहिए, परन्तु उत्तराखण्ड की भाजपा सरकार विकास योजनाओं की स्वीकृति जारी करने से पहले देख रही है कि यहां पर भाजपा का जनप्रतिनिधि है या कांग्रेस या अन्य दल का तथा जिन निर्वाचन क्षेत्रों में विपक्षी दल के जनप्रतिनिधि हैं उन क्षेत्रों में विकास की योजनाओं की स्वीकृति में आना-कानी की जा रही है।

प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष ने पिथौरागढ़ विधायक मयूख महर द्वारा अपने क्षेत्र की जनहित की मांगों को लेकर आन्दोलन की राह पर चलने को कहा कि इससे अधिक शर्म की बात क्या हो सकती है कि प्रदेश में विपक्षी दल के चुने हुए जनप्रतिनिधियो को अपने क्षेत्र में जनहित की योजनाओं के लिए आन्दोलन एवं धरने का सहारा लेना पड़ रहा है। उन्होंने भाजपा पर सत्ता का दुरूपयोग कर विपक्षी दलों के नेताओं को प्रताड़ित करने का भी आरोप लगाते हुए कहा कि यही नहीं भारतीय जनता पार्टी के शीर्ष नेतृत्व के इशारे पर विपक्षी दल के चुने हुए जनप्रतिनिधियों को ऐन-केन-प्रकारेण पदच्युत्त करने का षडयंत्र रचा गया। चमोली जिला पंचायत अध्यक्ष, उत्तरकाशी जिला पंचायत अध्यक्ष एवं उधमसिंहनगर में विपक्षी दल के ब्लाक प्रमुख की बर्खास्तगी इसकी बानगी मात्र है। उन्होंने कहा कि भारतीय जनता पार्टी सत्ता के मद में चूर होकर विपक्ष की आवाज दबाने का काम कर रही है परन्तु कांग्रेस ऐसा नहीं होने देगी तथा जनता एवं जनप्रतिनिधियों की लड़ाई सडक से लेकर सदन तक लडती रहेगी।
प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष करन माहरा ने कहा जिस प्रकार केन्द्र की भाजपा सरकार विपक्षी नेताओं के खिलाफ ईडी और सीबीआई का दुरुपयोग करती आ रही है, उसी प्रकार राज्य में विपक्षी दल के निर्वाचित जन प्रतिनिधियों के क्षेत्रों में विकास कार्यों पर रोक लगाकर भाजपा की राज्य सरकार द्वारा उन्हों लगातार प्रताडित किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस पार्टी भारतीय जनता पार्टी सरकार की इस प्रकार की भेदभाव वाली सोच की घोर निन्दा करती है तथा मांग करती है कि सभी निर्वाचित जनप्रतिनिधियों के क्षेत्रों में समान रूप से विकास की योजनाएं स्वीकृत की जाए अन्यथा कांग्रेस को जनता के साथ सड़क पर उतरकर आन्दोलन के लिए मजबूर होना पड़ेगा।