Home उत्तराखंड नन्दाधाम नत्थनपुर में, नन्दा डोली यात्रा में उमड़े सेकड़ों भक्तजन।

नन्दाधाम नत्थनपुर में, नन्दा डोली यात्रा में उमड़े सेकड़ों भक्तजन।

38

जा बेटी नन्दा कैलाश के गीतों में भावुक हुए लोग, आज नन्दाष्टमी के उपलक्ष्य में नन्दाधाम अपर नत्थनपुर से नन्दा डोली यात्रा ढोल दमाऊं पहाड़ के वाद्य यंत्रों के साथ जय भगोती नन्दा चली कैलाश के स्वर संग में सेकड़ों की संख्या में नन्दा भक्त कतारवद्ध आदर्श कालोनी शिव मंदिर से होते हुए मुख्य मार्ग में हनुमान मंदिर में भगवती का भब्य स्वागत 6 नम्बर पुलिया के दुकानदारों के द्वारा भगवती का पूजन पुष्प वर्षा करते हुए इंद्रप्रस्थ दुर्गा मंदिर में भक्तों के द्वारा पूजन व पुष्प वर्षा की गई रिंग रोड़ गायत्री पूजा स्टोर पर भब्य व्यवस्था एवं जलपान की व्यवस्था की गई फिर नन्दा धाम जो कि देहरादून में एक ही है ज्वाल्पा मंदिर में भी भक्तों की भीड़ उमड़ी ओर नन्दा मंदिर में यात्रा का समापन हुआ वहीं आसू बहगुणा एवं सुदेखना बहगुणा के द्वारा भक्तों के लिए भोजन प्रसाद की व्यवस्था की गई कथा। वाचन करते हुए प्रसिद्ध कथा वाचक आचार्य शिव प्रसाद ममगाईं कहा यह नन्दा उत्सव उत्तराखंड का प्रसिद्ध प्रेम और परम् प्रेम का मेल है जिसमें परमात्मा से परम् प्रेम और बेटी से प्रेम करने पर हम जीवन की हर खुशियों से परिपूर्ण होकर लक्ष्य प्राप्त कर सकते है। नन्दा उत्तराखंड में पार्वती का ही स्वरूप व हिमालय की बेटी एवं मैनावती की तपस्या की प्रति मूर्ति है इस यात्रा से प्रेम व स्व हार्द का सन्देश मिलता है बेटी को प्रेम करो और आपसी भाई चारा को बढ़ावा देना का सन्देश प्राप्त होता है, नन्दा डोली यात्रा से आज विशेष रूप से पूजा अर्चना में टपकेश्वर के किशन गिरि महाराज, आशू रविंद्र बहगुणा, सुदेखना बहुगुणा, जटा शंकर तिवाड़ी, माता दीपा मुंडेपी और तारा दत्त, भुवनेश्वर मुंडेपी, ओम प्रकाश मुंडेपी प्रभा जुयाल, प्रसन्ना लेखेड़ा, विकास जुयाल मनीषा दत्ता, सर्वेस्वरी देवी डॉक्टर तृप्ति, डॉक्टर आशीष सेमवाल, मनोहर लाल जुयाल, सुधीर मुंडेपी, पार्षद नरेश रावत एवं पार्षद जगदीश सेमवाल, सुरेन्द मुंडेपी, प्रेम तनेजा, महावीर रावत, मुनि पन्त, आचार्य प्रदीप नोटियाल, आचार्य अनिल नौटियाल, संदीप बहगुणा, सुरेश जोशी, पंडित रोहित, रेखा उनियाल, इंदु बलोनी, रेखा बलूनी, हेमलता ध्यानी, कर्नल उषा बिष्ट, अमिता शर्मा आदि भक्त जन
उपस्थित रहे।