Udayprabhat
उत्तराखंडधर्मराज्य

चारधाम यात्रा व्यवस्था को लेकर मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी की सख्ती

चारधाम यात्रा व्यवस्था को लेकर मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी की सख्ती और निरंतर निगरानी के बाद उत्तरकाशी में पुलिस-प्रशासन अलर्ट मोड पर है। रविवार को गंगोत्री-यमुनोत्री यात्रा पर इसका सकारात्मक असर देखने को मिला और दोनों धाम को जोड़ने वाले राजमार्गों पर यातायात व्यवस्था कुछ हद तक पटरी पर लौट आई।
पूर्व में तीर्थ यात्रियों को उत्तरकाशी से गंगोत्री पहुंचने में जहां 12 से 15 और बड़कोट से जानकीचट्टी (यमुनोत्री) पहुंचने में 10 से 12 घंटे लग रहे थे। अब यह सफर चार से पांच घंटे में पूरा हो रहा है। उत्तरकाशी से गंगोत्री की दूरी 105 किमी जबकि बड़कोट से जानकीचट्टी की दूरी लगभग 55 किमी है। सामान्य दिनों में यह दूरी तय करने में दो घंटे लगते हैं।

रविवार को सुबह से दोपहर तक यमुनोत्री जाने वाले तीर्थ यात्रियों को खरादी और पालीगाड में करीब एक-एक घंटा ही रोका गया। खरादी में तीर्थ यात्रियों के लिए नागरिक सुविधाएं उपलब्ध हैं। हालांकि, यमुनोत्री पैदल मार्ग पर श्रद्धालुओं की भीड़ बरकरार है। मार्ग बेहद संकरा होने से यहां अभी भी जाम की स्थिति बन रही है। गंगोत्री राजमार्ग पर भी जाम और वन-वे गेट सिस्टम के तहत लंबे इंतजार की समस्या कुछ हद तक दूर हो गई है।

सुबह के समय तीर्थ यात्रियों को हिना पंजीकरण जांच केंद्र पर करीब 30 मिनट ही रुकना पड़ रहा है। रविवार सुबह चार बजे से दोपहर दो बजे तक गंगोत्री धाम में 1,100 से अधिक वाहनों में करीब 10,000 और यमुनोत्री धाम के अंतिम सड़क पड़ाव जानकीचट्टी व खरसाली में 800 से अधिक वाहनों में 8,500 से अधिक श्रद्धालु पहुंच चुके थे।

बिना पंजीकरण आ रहे तीर्थ यात्रियों को ऋषिकेश और हरिद्वार में रोके जाने से भी यात्रा मार्गों पर दबाव कम हुआ है। गंगोत्री और यमुनोत्री धाम की यात्रा को पटरी पर लाने के लिए मुख्यमंत्री के मोर्चा संभालने के बाद यातायात व्यवस्था सुचारु करने के लिए आइजी अरुण मोहन जोशी शनिवार को दोनों धाम पहुंचे। गंगोत्री क्षेत्र में व्यवस्था की निगरानी के लिए उप जिलाधिकारी बृजेश कुमार तिवारी को भेजा गया है। जबकि, उप जिलाधिकारी बड़कोट मुकेश चंद रमोला और उप जिलाधिकारी डुंडा नवाजिश खलीक जानकीचट्टी में डेरा डाले हैं। साथ ही दोनों राजमार्गों पर जहां वन-वे गेट सिस्टम लागू है, वहां वाहनों के ठहराव को कम करने की कवायद भी शुरू हो गई है। यमुनोत्री राजमार्ग पर अब खरादी, पालीगाड और जानकीचट्टी में ही वन-वे गेट सिस्टम लागू है।

Leave a Comment