Udayprabhat
उत्तराखंडधर्मराज्य

सूर्य देव 14 मई को मेष राशि से निकलकर वृषभ राशि में गोचर करेंगे

यह पर्व हर वर्ष वैशाख माह के शुक्ल पक्ष की सप्तमी तिथि को मनाया जाता है। इस दिन साधक पवित्र नदी गंगा में आस्था की डुबकी लगाते हैं। धार्मिक मत है कि वैशाख माह के शुक्ल पक्ष की सप्तमी तिथि पर गंगा स्नान करने से व्यक्ति द्वारा जन्म-जन्मांतर में किए गए सभी पाप कट जाते हैं। साथ ही साधक को आरोग्यता का वरदान प्राप्त होता है।यह पर्व हर वर्ष वैशाख माह के शुक्ल पक्ष की सप्तमी तिथि को मनाया जाता है।
इस दिन साधक पवित्र नदी गंगा में आस्था की डुबकी लगाते हैं।
सूर्य देव 14 मई को मेष राशि से निकलकर वृषभ राशि में गोचर करेंगे।ज्योतिष गणना के अनुसार, आत्मा के कारक सूर्य देव 14 मई को राशि परिवर्तन करेंगे। इस दिन सूर्य देव मेष राशि से निकलकर वृषभ राशि में गोचर करेंगे। अतः 14 मई को वृषभ संक्रांति है। इस दिन गंगा सप्तमी भी मनाई जाएगी। यह पर्व हर वर्ष वैशाख माह के शुक्ल पक्ष की सप्तमी तिथि को मनाया जाता है। इस दिन साधक पवित्र नदी गंगा में आस्था की डुबकी लगाते हैं। धार्मिक मत है कि वैशाख माह के शुक्ल पक्ष की सप्तमी तिथि पर गंगा स्नान करने से व्यक्ति द्वारा जन्म-जन्मांतर में किए गए सभी पाप कट जाते हैं। साथ ही साधक को आरोग्यता का वरदान प्राप्त होता है। अगर आप भी मनचाहा वर पाना चाहते हैं, तो गंगा सप्तमी पर स्नान-ध्यान के बाद राशि अनुसार भगवान शिव का अभिषेक करें।

Leave a Comment