Udayprabhat
उत्तराखंडराज्य

पंच केदार के चतुर्थ केदार रुद्रनाथ के कपाट भक्तों के लिए आज तो 6:00 बजे खुल गए

पंच केदार के चतुर्थ केदार रुद्रनाथ के कपाट भक्तों के लिए आज तो 6:00 बजे खुल गए हैं। चमोली (लक्ष्मण सिंह नेगी)उत्तराखंड के जनपद चमोली के सीमांत क्षेत्र में गोपेश्वर जिला मुख्यालय से 3 किलोमीटर सगर राजा सगर की तपोस्थली है। यहां से 19 किलोमीटर की पदयात्रा तय करके रुद्रनाथ पहुंच जाता है हिमालय की अद्भुत रोमांस भरी शाहसिक यात्रा के रूप में इस यात्रा को जाना जाता है यात्रीगण भी यहां पहुंचने के लिए दो पड़ाव में रुद्रनाथ मंदिर तक पहुंचाते हैं इस रास्ते में सुंदर नयना विराम मखमली बुग्याल जिसे पनार कहते हैं लगभग 5 से 6 किलोमीटर की दूरी पर फैला हुआ मनमोहन और दिलकश नज़ारों से भरा हुआ या क्षेत्र यहां पहुंचने वालों की थकान को दूर कर देता है यहां से हिमालय के दर्जनों चोटियों के दर्शन ऐसे होते हैं कि जैसे हम हाथ से हिमालय को छू सके प्रकृति के इस सुंदर नजारों को देखते हुए रुद्रनाथ पहुंच जाता है रुद्रनाथ का मंदिर एक गुफा के रूप में स्थित है जहां भगवान का मुखारविंद है वह गुफा में है हिमालय में अकेला यह मंदिर है जहां भगवान शंकर की मुखारविंद की पूजा होती है वैसे तो यहां शिव की पूजा के साथ-साथ विष्णु की पूजा कभी विधान है मंदिर में विष्णु की मूर्ति विराजमान है वन देवियां वीरभद्र की पूजा नित्य होती है आज सुबह इस वर्ष के पुजारी वेद प्रकाश भट्ट के द्वारा इस वर्ष के भगवान रुद्रनाथ के कपाट बड़ी श्रद्धा के साथ खोला यहां पर सैकड़ो की संख्या में श्रद्धालु गण उपस्थित थे। और यह पूजा 6 माह तक निरंतर चलती रहेगी।

Leave a Comment